In Salute to India’s Soldiers and Martyrs

स्वर्ग की गोद मे

कैसा नरक पसरा हुआ।

पग पग छाया आतंक

हर ज़र्रा खून से लाल हुआ।

कुछ रिश्ते और यतीम हुए

कुछ सपने और कुर्बान।

राहे वतनपरस्ती में फिर

वीरों ने लुटाई जान।

अपना था वो

किसी का सपना था वो

जो वहां शहीद हुआ।

जिसकी मौत पर

सारा वतन गमगीन हुआ।

है नमन सब शहीदों को

दिल में गूंजती यह पुकार

अंत हो आतंक का अब

ना जाए ये बलिदान बेकार।

May our bravehearts stay strong.

May our martyrs rest in peace.

May God be with their families.

Jai Hind! Jai Hindi ki Sena!

 

2 thoughts on “In Salute to India’s Soldiers and Martyrs”

Share your thoughts, please!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.